Headlines
scroll

    Please Contact Us To Join GNA News Agency, For : Reporter, State head, Bureau chef.Toll Free:18004192745,+91 7575000130/+91 2656590130

Home / State / Rajasthan / JAIPUR / बेहतर विश्व-समाज के निर्माण के लिए प्रबुध्द मीडिया कांफ्रेंस-2018 आबू ब्रह्मकुमारी संस्थान में आयोजन।।

बेहतर विश्व-समाज के निर्माण के लिए प्रबुध्द मीडिया कांफ्रेंस-2018 आबू ब्रह्मकुमारी संस्थान में आयोजन।।

BY:GNA
मीडिया यूं तो उपकरण या माध्यम है। पत्रकार उसका उपयोग मध्यस्थता के रूप में करते हुए लोगों को प्रेरित और शिक्षित करता है। इसलिए जब हम प्रबुध्द, संबुध्द, उदित-ज्ञान या एनलाइटेंड मीडिया जैसे संबोधन करते हैं तो वे सीधे-सीधे पत्रकारिता और पत्रकारों के लिए ही होते हैं। सूचना, विचार और उनका विवेचन पत्रकारिता है जिसे मीडिया व्यक्त करता है। इस अर्थ में मीडिया कहा जाना इस सब का समवेत अथवा समग्र है।
हम सभी बेहतर समाज, मानवीय मूल्यों पर आधारित समाज चाहते हैं। इसके लिए प्रयत्न भी करते रहे हैं। शासन और लोग मिलकर इसी लोक-आकांक्षा के लिए उपाय सोचते, विचारते और करते रहे हैं। इसमें पिछले कुछ वर्षों से एक फर्क आया है। कह सकते हैं, दो-तीन दशकों से धीरे-धीरे लोग सब कुछ शासन से ही अपेक्षा करने लगे हैं। समाज की अशासन इकाईयां या तो समाप्त हो र्गइं या निष्क्रिय हैं। शिक्षा, स्वास्थ सहित कई क्षेत्रों की इकाईयां भी अब शासन की सहायता से ही समाज की बेहतरी और मूल्य चेतना के लिए कार्य करती दिखाई देती हैं।
मूल्य चेतना का उत्स या केन्द्र बिन्दु अध्यात्म रहा है। समष्टि मन जो चाहता है और जो अनुभव रहे हैं उसका मिश्रित रूप ही मानवीयता का आधार है। शासन-प्रशासन जनित मूल्य व्यवस्था, विधान, नियम आदि केन्द्रित रहे हैं। बाजार और व्यवहार ने भी मूल्यों को प्रभावित किया है। इस तरह से वर्तमान मूल्यों का केन्द्र बिन्दु विधान, नियम, बाजार, व्यवहार आदि का समिश्र रूप है जो मानवीय ही हो यह निश्चय पूर्वक नहीं कहा जा सकता।
मीडिया भी विधान-नियम, व्यवस्था, बाजार और व्यवहार को व्यावहारिक आधार मानता है और उसके आधार पर ही समाज रचना के लिए लोगों को उत्प्रेरित करता रहा है। वर्तमान समाज मूल्यों के इसी व्दंव्द का परिणाम कहा जा सकता है जिसे समाज के प्रबुध्द लोग ही परिवर्तन कर सकते हैं। इस अर्थ में जब तक पत्रकार स्वयं उस मूल्य चेतना या उसके केन्द्र बिन्दु को स्वीकार नहीं करता या उसका स्वयं अनुभव नहीं करता, वह स्वयं प्रबुध्द नहीं होता, वह मीडिया के माध्यम से उस तरह की अभिव्यक्ति करने में आत्मिक रूप से सशक्त नहीं होगा। उसे व्यवस्था, बाजार और भोग जनित मूल्यों पर आधारित समाज को बदलने के लिए स्वयं प्रबुध्द होना ही आज की आवश्यकता है।
बेहतर विश्व-समाज की स्थापना के लिए प्रबुद्ध मीडिया पर आयोजित अंतराष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन में मीडिया जनों के साथ विमर्श का आशय यही है कि वे समाज के परिवर्तन के लिए किये जा रहे अथक प्रयासों को इस परिप्रेक्ष में देखकर विचार करें और निश्चय करें।

apteka mujchine for man ukonkemerovo woditely driver.

error: Content is protected !!